Navagrahas

तीन ग्रहों की युति का ज्योतिषीय विश्लेषण: चंद्र, गुरु और अन्य ग्रहों के प्रभाव

ग्रहों की युति का फल किस जन्म – लग्न के किस भाव में, किस राशि पर कौन – सा ग्रह स्थित हो, तो उसका क्या फलादेश होता है – इसका विस्तृत किया जा चूका है। अब हम विविध ज्योतिष ग्रथों के आधार पर ग्रहों की युति के फलादेश का वर्णन करते हैं। अर्थात जन्म – […]

तीन ग्रहों की युति का ज्योतिषीय विश्लेषण: चंद्र, गुरु और अन्य ग्रहों के प्रभाव Read More »

Astrology, Religious Observances, ज्योतिष, धार्मिक, धार्मिक आयोजन

तीन ग्रहों की युति का ज्योतिषीय विश्लेषण: चंद्र, बुध और अन्य ग्रहों के प्रभाव

ग्रहों की युति का फल किस जन्म – लग्न के किस भाव में, किस राशि पर कौन – सा ग्रह स्थित हो, तो उसका क्या फलादेश होता है – इसका विस्तृत किया जा चूका है। अब हम विविध ज्योतिष ग्रथों के आधार पर ग्रहों की युति के फलादेश का वर्णन करते हैं। अर्थात जन्म –

तीन ग्रहों की युति का ज्योतिषीय विश्लेषण: चंद्र, बुध और अन्य ग्रहों के प्रभाव Read More »

Astrology, Religious Observances, Science & Astronomy, ज्योतिष, धार्मिक

मंगल और ग्रहों की युति के प्रभाव: राशिफल और उपाय

ग्रहों की युति का फल किस जन्म – लग्न के किस भाव में, किस राशि पर कौन – सा ग्रह स्थित हो, तो उसका क्या फलादेश होता है – इसका विस्तृत किया जा चूका है। अब हम विविध ज्योतिष ग्रथों के आधार पर ग्रहों की युति के फलादेश का वर्णन करते हैं। अर्थात जन्म –

मंगल और ग्रहों की युति के प्रभाव: राशिफल और उपाय Read More »

Astrology, Science & Astronomy, ज्योतिष, धार्मिक, धार्मिक आयोजन

चंद्र और ग्रहों की युति के प्रभाव: राशिफल और उपाय

ग्रहों की युति का फल किस जन्म – लग्न के किस भाव में, किस राशि पर कौन – सा ग्रह स्थित हो, तो उसका क्या फलादेश होता है – इसका विस्तृत किया जा चूका है। अब हम विविध ज्योतिष ग्रथों के आधार पर ग्रहों की युति के फलादेश का वर्णन करते हैं। अर्थात जन्म –

चंद्र और ग्रहों की युति के प्रभाव: राशिफल और उपाय Read More »

Astrology, Science & Astronomy, ज्योतिष, धार्मिक

ग्रहों का मूल त्रिकोण राशि में प्रभाव: उच्चतम परिणाम

मूल त्रिकोण राशिगत ग्रहों का फल मूल त्रिकोण राशिगत ग्रहों का सामान्य फल नीचे लिखे अनुसार होता है – उदहारण – कुंडली में सूर्य को जिस प्रकार मूल त्रिकोण राशि में स्थित दिखाया गया है, उसी प्रकार अन्य कुंडलियों में भी समझ लेना चाहिए | उदहारण – कुंडली में चन्द्रमा को जिस प्रकार मूल त्रिकोण

ग्रहों का मूल त्रिकोण राशि में प्रभाव: उच्चतम परिणाम Read More »

Astrology, Science & Astronomy, ज्योतिष, धार्मिक आयोजन

ग्रहों के सम्मान: ऊँचा और नीचा स्थान

ग्रहों की उच्च तथा नीच स्थिति जातक की जन्म कुंडली में जिस राशि के जितने अंश गत हो चुके हों, उसके अनुसार विभिन्न ग्रह उच्च तथा नीच स्थिति को प्राप्त करते हैं | (1) ग्रहों की उच्च स्थिति – ग्रहों की उच्च स्थिति के बारे में नीचे लिखे अनुसार समझना चाहिए : (1) सूर्य –

ग्रहों के सम्मान: ऊँचा और नीचा स्थान Read More »

Astrology, Science & Astronomy, ज्योतिष, धार्मिक

द्वादशभाव : ज्योतिष शास्त्र में द्वादश भावों का महत्व

द्वादशभाव जन्म कुंडली में बारह खाने होते हैं | इन्हे “घर” “स्थान” अथवा “भाव” कहा जाता है | जन्म कुंडली के द्वादश भाव ऊपर दी गई उदहारण कुंडली में इन द्वादश भावों को प्रदर्शित किया गया है | जन्म कुंडली के बारह भावों के नाम क्रमश : इस प्रकार हैं : द्वादशभवों का परिचय जन्म

द्वादशभाव : ज्योतिष शास्त्र में द्वादश भावों का महत्व Read More »

Astrology

The Role and Importance of Rahu in Vedic Astrology

When it comes to Vedic astrology, Rahu holds a significant position. Rahu is one of the nine celestial bodies known as the Navagrahas, and it plays a crucial role in shaping an individual’s destiny. In this blog post, we will explore the role and importance of Rahu in Vedic astrology. What is Rahu? Rahu is

The Role and Importance of Rahu in Vedic Astrology Read More »

Astrology

The Role and Importance of the Sun in Vedic Astrology

When it comes to Vedic astrology, the Sun holds a significant place in the cosmic realm. Known as Surya in Sanskrit, the Sun is considered one of the most powerful celestial bodies in the astrological system. Its influence and importance cannot be overstated, as it plays a crucial role in shaping our lives and the

The Role and Importance of the Sun in Vedic Astrology Read More »

Astrology
x
Scroll to Top
Verified by MonsterInsights